Hindi Story | प्रियतमा के लिये...! | लोक कथाएँ #16


स्वीडन की यह लोक कथा, मूलतः डेनिश प्रेमी जोड़े को लेकर कही गई है! कथा का नायक आरिल्ड एक कुलीन डेनिश परिवार का युवा है, वो डेनिश नौसेना में कार्यरत है और अपने बचपन की मित्र थाले से प्रेम करता है ! दोनों पड़ोसी देशों के मध्य शांति के दिनों में वो, स्वीडन के राजा एरिक के राज्याभिषेक में एक मेहमान बतौर सम्मिलित भी हुआ था! कालांतर में, किसी कारणवश, स्वीडन और डेनमार्क में युद्ध हो जाने के बाद, वो युद्धबंदी के तौर पर स्वीडन की कैद में था, तो उसकी प्रेमिका थाले ने उसे पत्र लिख कर सूचित किया कि, उसके पिता ने,उसके विरोध के बावजूद, उसका विवाह, किसी अन्य व्यक्ति से तय करते हुए, विवाह की तिथि भी पक्की कर दी है, क्योंकि उनका मानना है कि, आरिल्ड अब कभी भी अपने वतन वापस नहीं आ पायेगा ! कैदखाने में अपनी प्रेमिका का पत्र पाकर आरिल्ड भावुक हो जाता है और उसकी आंखों से आंसू बहने लगते हैं ! जेल की कोठरी की धुंधली रौशनी में पत्र को ढीले हाथों से थामे हुए, वो युद्ध की क्रूरता और उसका भयावह परिणाम देख रहा था !

उसने अपनी प्रेमिका से ब्याह का वचन दिया था, जो उसकी आजादी के बिना संभव ही नहीं था ! लड़खड़ाते हुए क़दमों से वो उठा और उसने स्वीडन के राजा एरिक को पत्र लिखा,

महामहिम,
आपको स्मरण होगा कि मैं आपके राज्याभिषेक के समय, आपका सम्मानित मेहमान था और आज आपका बंदी हूं! राज्याभिषेक के दिन आपने मुझे अपना मित्र माना था, सो मैं आपसे विनती करता हूं कि आप मुझे मेरी प्रियतमा से ब्याह करने के लिए मुक्त करने की कृपा करें ! मैं आपको वचन देता हूं कि मैं, अपनी रोपणी की पहली फसल कटते ही आपकी कैद में वापस आ जाऊंगा ! राजा एरिक ने युवक के वचन पर विश्वास करते हुए उसे एक फसल की समयावधि के लिए , मुक्त करने के आदेश दे दिये ! डेनमार्क पहुंचने पर थाले से उसकी आनंदमयी मुलाकात हुई , किन्तु थाले के पिता उसकी स्वतंत्रता की एक फसली वचनबद्धता वाली योजना से खुश नहीं थे, हालांकि विरोध के बावजूद उन्होंने प्रेमी युगल का ब्याह हो जाने दिया !

आरिल्ड को पता था कि, पहली फसल कटते ही, उसे राजा एरिक की कैद में वापस जाना होगा, अतः उसने सोच विचार कर, एक विशाल भूक्षेत्र में बीजारोपण कर दिया ! बसंत के मौसम के कुछ माह बाद ही, राजा एरिक के दूत ने आकर, आरिल्ड से कहा, फसल कटाई का मौसम बीत चुका है और हमारे राजा आपकी वापसी का इंतज़ार कर रहे हैं ! इस पर आरिल्ड ने कहा, मेरी फसल अभी कैसे कटेगी ? वो तो अभी तक अंकुरित भी नहीं हुई है ! यह सुनकर दूत ने आश्चर्य से पूछा, अंकुरित भी नहीं हुई ? ऐसा क्या रोपा है आपने ? ...आरिल्ड ने कहा पाइन के पौधे! अपने दूत से यह किस्सा सुनकर, राजा एरिक ने हंसते हुए कहा, कि वो एक योग्य व्यक्ति है, उसे कैद में नहीं रखा जाना चाहिये ! इस तरह से आरिल्ड और थाले हमेशा एक साथ बने रहे! कहते हैं कि पाइन का एक शानदार जंगल उनके प्रेम की विरासत बतौर आज भी जीवित है!

{यह आख्यान मूलतः डेनमार्क के प्रेमी युगल का है, किन्तु शांति काल के मित्रवत व्यवहार और युद्ध काल के शत्रुवत व्यवहार ने इसे दो देशों की कथा में बदल दिया है ! नायक अपने बचपन की सखि से ब्याह के लिए वचनबद्ध है तथा वह उससे ब्याह करने देने की छूट की एवज में शत्रु देश के राजा की कैद में वापस जाने के लिए भी अपना वचन दे बैठता है, उसका भावी श्वसुर उसकी वचनबद्धता के प्रति आशंकित है, इसीलिये वह अपनी पुत्री का भविष्य एक कैदी के हाथों में सौंपने का इच्छुक नहीं है ! ये बात गौरतलब है कि अनिच्छुक होकर भी वह अपनी पुत्री के निर्णय का मान रखता है और प्रेमी युगल को ब्याह करने देता है ! जब तक कथा का नायक एक स्वतंत्र देश के कुलीन परिवार का युवा है और अपने देश की नौसेना में कार्यरत है तब तक उसके प्रेम पर ग्रहण नहीं लगता, किन्तु जब उसका देश युद्ध में पराजित होता है और वह स्वयं विजेता देश में युद्धबंदी हो जाता है, तब इस प्रणय गाथा का भविष्य धुंधला दिखाई देने लगता है, इसका कारण निश्चय ही ब्याह योग्य कन्या के पिता की चिंता को माना जाये}
अगर आपको यह पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ Share जरुर करे।

Post a Comment

Previous Post Next Post