विश्व अर्थव्यवस्था के चरण | Stages of world Economy


कार्ल मार्क्स ने विश्व अर्थव्यवस्था के विभिन्न चरण दिये है।

इसने विश्व अर्थव्यवस्था को तीन चरणों में विभक्त किया है-
      1. वाणिज्यवाद (1500-1776)

      2. मुक्तव्यापार या औद्योगिक क्रांति (1776-1850)

      3. वितीय पूंजीवाद (1850- अब तक)

वाणिज्यवाद (1500-1776):

    • भोगोलिक खोजो के फलस्वरूप इस चरण का उदय हुआ।

    • इस चरण में अधिकाधिक निर्यात (Export) पर जोर दिया गया

    • फलस्वरूप विश्व व्यापार ठप्प हो गया।

मुक्तव्यापार या औद्योगिक क्रांति (1776-1850):-

    • इस समय मुक्त व्यपार को बढ़ावा दिया गया, एडम स्मिथ की विचारधार से प्रेरित होकर अर्थव्यवस्था पर से सभी प्रकार के प्रतिबन्ध हटा दिए गए और बाजार के अंदर 'माँग व पूर्ति का नियम' लागू हुआ।

    • अधिक उत्पादन करने के लिए 'मशीनों का अविष्कार' हुआ जिससे औद्योगिक क्रांति का जन्म हुआ।

    • दुनिया के देशों को उपनिवेश बनाकर उनका आर्थिक शोषण किया गया और विभिन्न देशों को

    • उपनिवेश बनाने के लिए साम्राज्यवाद को बढ़ावा मिला।

वितीय पूंजीवाद (1850- अब तक):-

    • इस चरण में इस बात पर ध्यान दिया गया कि किस तरह धन का प्रयोग करके अधिक से अधिक धन कमाया जा सके, और इस तरह बैंक, बीमा आदि जैसे नए-नए व्यवसाय सामने आए।

Post a Comment

Previous Post Next Post